Kya Sabhi AEPS Companiya API par Aadharit hoti Hai?

Kya Sabhi AEPS Companiya API par Aadharit Hai?

इस सवाल का जवाब है ; हाँ !

सभी AePS कम्पनिया API (एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफ़ेस) पर आधारित होती है। बहुत सारे लोग अनजाने में इस सवाल का जवाब ना में दे दे सकते है। इस लिए पहले आपको समझना होगा की API क्या है और कैसे इसका उपयोग किया जाता है। API टर्म White label टर्म से जुड़ा हुआ है। यदि आप AePS फील्ड में अधिक समय से काम कर रहे है, तो आपको  White label के बारे में अवधारणा जरूर होगी। आइये इस लेख के माध्यम से समझते है की API क्या होता है और कैसे कार्य करता है?

इसे भी पढ़े : SafetyNet Integrity Not Passed

Kya Sabhi AEPS Companiya API par Aadharit hoti Hai

API क्या होता है ?

API के बारे में हम सभी ने सूना होगा लेकिन हम में से बहुत से लोग ऐसे होंगे जो नहीं जानते होंगे की एपीआई क्या होता है (What is API in Hindi) और API का fullform क्या है? इसको हम Application Programming Interface भी कह सकते है। यदि आप कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में रूचि रखते है तो आपका पक्का यह पता होगा की API क्या है ? और यदि AePS फील्ड में काम करते है तो आपको यह शब्द कई बार सुनने को मिला होगा। API एक ऐसा Software Code है जो की अलग अलग Software Program को आपस में Communicate/Connect करने में सहायता करता है।

API का Full Form – Application Programming Interface होता है। API की बात करे तो API एक बिच का सिस्टम है, यानि की हम अगर हमारे Phone या Computer में कोई Application चलाते है तब एक सर्वर पर उपलब्ध डाटा का आदान-प्रदान होता है, यह प्रक्रिया API के मदद से होता है। मतलब API के बिना कोई भी Application का कार्य करना मुश्किल है।

आप किसी भी कंपनी का AePS एप्प इस्तेमाल करते है, तो आप देख सकते है उसमे रिचार्ज, बिल पेमेंट, मनी ट्रांसफर, आधार विथड्रावल जैसी अनेक सेवाएं एक ही अप्प में उपलब्ध होती है। जबकि ये सभी सेवाएं अलग-अलग स्वतंत्र कंपनियों के सेवाएं होते है।

इसे भी पढ़े : White label AEPS Service Provider

API को उदहारण माध्यम से समझते है –

चलिए इसे एक साधारण से उदाहरण के माध्यम से समजते है। मान लीजिये आप किसी Resturant में खाना खाने के लिए गए है। आपके टेबल पर एक Menu होगा जिसमे से आप चुन सकते हो की आपको क्या खाना है। ऐसे में मान लीजिये की आपने एक पिज़्ज़ा आर्डर किया तो एक वेटर आएगा, वो आर्डर लेगा और फिर कीचन में जायेगा। किचन में जाने के बाद शेफ को पिज़्ज़ा बनाने के लिए कहेगा। पिज्जा बन जाने के बाद वो वेटर आपके टेबल पर परोसेगा।

इसे भी पढ़े : How to Create a WhatsApp URL Link for Chat

इस उदाहरण में जो waiter है वो API की तरह काम रहा है, जो की आपके और रसोई घर वालो के बिच में काम कर रहा है। यानि की जो पिज़्ज़ा है वो एक एप्लीकेशन है जिसे हम चालू करते है और फिर जो वेटर है वो API है जो की हमारा डेटा एक सर्वर पर लेके जाता है और फिर जब जो डेटा हमें चाहिए वो तैयार हो जाता है तो वो उसे हमारे लिए ले आता है वापस हमारे फ़ोन पर या कंप्यूटर पर।

कंप्यूटर भाषा में, API एक ऐसा तरीका है जिसके द्वारा वह अपने App को Development करते समय उसको एक ऐसा माध्यम प्रदान कर सकते है जिसके द्वारा वह आसानी से चलाया जा सके और User को अच्छा Experience दे सके। सरल भाषा में कहे तो, यह किसी सॉफ्टवेयर के बहुत सारे सिस्टम्स जो की उसको चलते है, उनके बिच एक संचार का माध्यम है। एक अच्छा API Application के संचार के माध्यम की उसकी तेजी के साथ सुगम बनाता है। यानि अधिक तेज़ी से काम करता है, इसके उदाहरण के लिए आप देख सकते है की कुछ Application की Speed अच्छी होती है और कुछ की नहीं।

इसे भी पढ़े : Mutual Funds Kya Hai?

Written by

Nandeshwar Katenga

Nandeshwar Katenga is a dynamic figure in the digital world, combining a foundation in Computer Programming with a passion for Digital Marketing, Web/App development, Personal finance, and blogging. His diverse skill set creates a unique blend of expertise that sets him apart in the tech world.

Leave a Comment

We would like to keep you updated with special notifications. Optionally you can also enter your phone number to receive SMS updates.