What is the Hindi meaning of liquidity in the stock market?

लिक्विड स्टॉक्स क्या है, लिक्विड स्टॉक्स को कैसे पहचानें, स्टॉक लिक्विडिटी क्या होती है, क्या लिक्विड स्टॉक्स खरीदना सही है (What is liquid stocks in hindi, Liquid stocks kya hai, Stock liquidity in hindi, How to identify liquid stocks)

हमें अक्सर सुनने को मिलता है कि जिस स्टॉक के अंदर लिक्विडिटी नहीं है हमें उसे buy नहीं करना चाहिए लेकिन यह बात हमेशा सही नहीं होती।

हमें यह पता होना चाहिए कि अगर कोई स्टॉक लिक्विड नहीं है तो उसका क्या कारण है। आपको स्टॉक्स की लिक्विडिटी को समझना बहुत जरूरी है तभी आप एक अच्छा लिक्विड स्टॉक्स buy कर सकते हैं।

इसीलिये आज हम आपको बताने वाले हैं-

 

👉लिक्विड स्टॉक्स क्या है?
👉स्टॉक्स की लिक्विडिटी क्यों महत्वपूर्ण है?
👉अच्छे लिक्विड स्टॉक्स कैसे ढूंढे?
👉स्टॉक्स की लिक्विडिटी कैसे पता करें?
👉लिक्विड स्टॉक्स खरीदना चाहिए या नहीं?

तो इन सबके बारे में जानने के लिए इस पोस्ट को पूरा ध्यान से पढ़िएगा चलिए शुरू करते हैं:

 

Stock Liquidity की परिभाषा

हम किसी भी stock को कितनी आसानी से Buy या Sell कर सकते हैं बिना उसके प्राइस को Imapact किये। मतलब हमारी Buying या Selling से उसके price पर ज्यादा असर नहीं होना चाहिए।

तो कोई भी स्टॉक आपके लिए Liquid है या illiquid यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप उसकी कितनी Quantity Buy करना चाहते हो।

Quantity का अर्थ है: Number of Shares मतलब आपने कितने शेयर्स खरीदे हैं।

Example: मान लो आपको किसी स्टॉक के केवल 100 शेयर्स ही खरीदना है तो आपको उसके ट्रेडिंग वॉल्यूम से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा भले ही उसका ट्रेडिंग वॉल्यूम कम क्यों ना हो।

लेकिन अगर आपको उस स्टॉक के 10000 या 50,000 शेयर्स खरीदने हैं तो आपको पहले ट्रेडिंग वॉल्यूम को देखना होगा।

लिक्विड स्टॉक्स क्या है?

लिक्विड स्टॉक्स का अर्थ है कि किसी स्टॉक को कितनी आसानी से खरीदा या बेचा जा सकता है बिना स्टॉक के प्राइस को impact किये। मतलब जिन स्टॉक्स में बहुत सारे buyers और sellers interested होते हैं उन्हें High Liquidity stocks या लिक्विड स्टॉक्स कहते हैं।

इसी तरह जिन stocks में कम लोग interested होते हैं उन्हें Low Liquidity stocks या illiquid stocks कहते हैं।

लिक्विड स्टॉक्स के चार्ट्स हमेशा smoothly चलते हैं। यानी की ग्राफ की movement के बीच में बहुत ज्यादा gap या space नहीं होता है। ये वही stocks होते हैं जिन्हें बहुत ज्यादा ट्रेड किया जाता है।

जबकि जो stocks लिक्विड नहीं होते हैं उनके price movement के chart में बहुत ज्यादा उथल-पुथल दिखाई देती है यानी कि charts कभी अचानक से ऊपर तो कभी अचानक से नीचे दिखाई देता है।

इसीलिए इनके ग्राफ की movement के बीच में space बहुत ज्यादा होता है। ऐसे stocks का प्राइस बहुत कम होता है और इन्हें हम Penny stocks या illiquid stocks भी बोलते हैं।
कुछ लोगों को लगता है कि केवल स्टॉक की लिक्विडिटी को देखकर ही स्टॉक्स को खरीदना चाहिए। अगर स्टॉक लिक्विडिटी कम है तो उसे नहीं खरीदना चाहिए लेकिन यह बात हर बार सच नहीं होती।
आइये इसे एक उदाहरण के द्वारा समझते हैं-
मान लीजिए कोई High Value Stock है मतलब उसका price बहुत ज्यादा है।
For Example: MRF कम्पनी का Share price 80000 के आसपास है।
अब चूंकि MRF का price ज्यादा है इसलिए इसका volume कम होगा। मतलब खरीदने और बेचने वालों की संख्या कम होगी.
(MRF की Average Trading Volume 10000 के आस पास ही रहती है उससे ज्यादा नहीं क्योंकि इसका प्राइस बहुत High है)
यानी कि इस स्टॉक को बहुत कम लोग खरीदेंगे।
चूंकि इसका Trading Volume कम है इसलिए इस स्टॉक्स की लिक्विडिटी भी कम होगी।
तो इसका मतलब यह नहीं है कि यह एक अच्छा स्टॉक नहीं है बल्कि MRF तो इंडिया की टॉप कंपनीज में से एक है।
तो सिर्फ ट्रेडिंग वॉल्यूम को देखकर ही यह सोचना कि हमें इसमें निवेश नहीं करना चाहिए तो आपका यह निर्णय गलत होगा।
इसीलिए स्टॉक्स की लिक्विडिटी को समझना आपके लिए बहुत जरूरी है।
इसे भी पढ़े : Free Paynearby Retailer ID Registration

स्टॉक्स की लिक्विडिटी क्या होती है?

स्टॉक्स की लिक्विडिटी को जानने से पहले हमें लिक्विडिटी को समझना होगा-

लिक्विडिटी का हिंदी अर्थ होता है ‘तरलता’ यानी कि पानी की तरह चलने वाला। लेकिन स्टॉक मार्केट में लिक्विडिटी का संबंध ‘सरलता’ से है ना की ‘तरलता’ से।

मतलब अगर किसी मार्केट में market participants यानी कि buyers और sellers को ट्रेड करने में सरलता होती है तो हम कह सकते हैं कि वह मार्केट लिक्विड मार्केट है।

ट्रेड का मतलब होता है (खरीदना और बेचना)

तो लिक्विडिटी हमें यह दिखाती है कितनी आसानी से किसी भी Asset को cash में convert किया जा सकता है।
जैसे– House, Building, Furniture, Machines etc.

आपको बता दें हर Asset की लिक्विडिटी अलग-अलग होती है जैसे; Cash की लिक्विडिटी सबसे ज्यादा होती है, उसके बाद Gold और फिर उसके बाद Stocks की लिक्विडिटी उससे भी कम होती है।

लेकिन सबसे कम लिक्विडिटी Modern Arts या equipment जैसी चीज़ों की होती है मतलब ऐसी चीजें जिन्हें sell करना काफी मुश्किल होता है।

 

उदाहरण: मान लीजिए कि आपके पास कोई जमीन है जो एक तरह से आपका Asset है। अगर आप किसी कारण से इसे बेचना चाहते हैं तो आप उसे तुरंत नहीं बेच पाएंगे क्योंकि पहले आपको कोई खरीददार ढूंढना होगा जिसे आप की जमीन पसंद आ सके और वह आपकी इच्छा के अनुसार पैसे दे सके।

लेकिन ऐसा खरीददार ढूंढने में आपको काफी समय लग सकता है और उसके बाद उस जमीन को बेचने की पूरी प्रोसेस में काफी समय भी लग जाएगा इसीलिए हम कह सकते हैं कि उस जमीन की लिक्विडिटी कम है।

क्योंकि उसे आसानी से cash में convert नहीं किया जा सकता है।

दूसरी ओर अगर हमारे पास कोई ऐसी मशीन है जो कि हमारे क्षेत्र में बहुत कम लोगों के पास है और उसे बहुत सारे लोग खरीदना चाहते हैं तो अगर आप उस मशीन को बेचना चाहें तो आप उसे तुरंत किसी को भी बेच सकते हैं और उसके बदले में आपको पैसे मिल जाएंगे इसका मतलब है कि उस मशीन की लिक्विडिटी बहुत ज्यादा है।

बिल्कुल यही कांसेप्ट स्टॉक्स की लिक्विडिटी पर भी लागू होता है जैसे;

अगर किसी स्टॉक्स की लिक्विडिटी ज्यादा है तो इसका मतलब है कि उस stock को बहुत ज्यादा ट्रेड किया जा रहा है यानी कि बहुत सारे लोग उस स्टॉक को खरीद या बेच रहे हैं.

ठीक इसके विपरीत अगर किसी स्टॉक्स की लिक्विडिटी कम है तो उस स्टॉक्स को बहुत कम लोग खरीद और बेच रहे हैं.

इसका मतलब है कि जिस स्टॉक की लिक्विडिटी जितनी ज्यादा होती है वह stock उतना ज्यादा पॉपुलर होता है और जिस स्टॉक की लिक्विडिटी कम होती है वह उतना ही कम पॉपुलर होता है।

जैसे- Penny Stocks

पेनी स्टॉक्स का मतलब वह स्टॉक्स जो ज्यादातर लोगों के बीच पॉपुलर नहीं है और इनको बहुत कम लोग जानते हैं इसीलिए इन्हें बहुत कम खरीदा या बेचा जाता है.

 

अगर पेनी स्टॉक्स को कोई अचानक से बहुत ज्यादा खरीद लेता है तो इसका प्राइस अचानक से ऊपर चला जाता है और अगर कोई बेच देता है तो ग्राफ अचानक से नीचे आ जाता है। यही कारण है कि इसके प्राइस का ग्राफ स्मूथ तरीके से आगे नहीं बढ़ता है और इसीलिए पेनी स्टॉक्स को हम iliquid stocks भी कह सकते हैं।

इसे भी पढ़े : How to find liquidity in stocks

क्या कम लिक्विडिटी वाले स्टॉक्स में निवेश करना चाहिए?

आपको अक्सर बोला जाता है कि कम लिक्विडिटी वाले स्टॉक्स में निवेश नहीं करना चाहिए लेकिन ऐसा आपको क्यों बोला जाता है?🤔

उसके पीछे पहला कारण यह है कि आपको जानबूझकर ऐसे stocks से दूर रखा जाता है।

आपने देखा होगा कि जो स्टॉक्स मल्टीबैगर (multibagger) बनते हैं शुरुआत में उनका वॉल्यूम भी कम होता है क्योंकि शुरुआत में बड़े इन्वेस्टर्स और कंपनियां ही उसमें Invest करते हैं और उसके बहुत सारे शेयर्स को अकेले ही खरीद लेते हैं।

लेकिन जब Volume और Price बढ़ना शुरू होता है तो धीरे-धीरे आप और हम जैसे Retail Investors का ध्यान भी इन stocks की तरफ जाता है।

दूसरा कारण यह है कि आपको केवल Liquid stocks को खरीदने के लिए ही हर जगह बोला जाता है क्योंकि ये Hot Stocks होते हैं इसलिए आपके नुकसान होने की संभावना भी ज्यादा होती है।

मेरी सलाह है कि आप Hot stocks से जितना हो सके उतना दूर रहिए। लालच में आकर उसे मत खरीदिये क्योंकि इनका प्राइस और वॉल्यूम किसी न्यूज़ के चलते अचानक से बढ़ जाता है और इनमें लिक्विडिटी आ जाती है लेकिन कुछ समय बाद इनका प्राइस अचानक से dump हो जाता है जिससे बहुत सारे निवेशकों को नुकसान झेलना पड़ता है।

Written by

Nandesh

लेखक एक Computer Engineer हैं, और 2016 से AePS के क्षेत्र में रिटेलर, डिस्ट्रीब्यूटर, सुपर डिस्ट्रीब्यूटर के रूप में काम कर रहे है। टेक्निकल, मार्केटिंग, प्रोग्रामिंग आदि सम्बंधित ब्लॉग लिखना भी पसंद करते है। आप उनसे [email protected] और WhatsApp पर संपर्क कर सकते हैं।

We would like to keep you updated with special notifications. Optionally you can also enter your phone number to receive SMS updates.