What is SIP – Systematic Investment Plan?

एसआईपी (SIP) क्या है?

सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी व्यवस्थित निवेश योजना, जो भारत में SIP नाम से अधिक लोकप्रिय है, निवेशकों को एक अनुशासित तरीके से निवेश करने के लिए म्यूचुअल फंड द्वारा दी जाने वाली सुविधा है। एसआईपी सुविधा एक निवेशक को चयनित म्यूचुअल फंड स्कीम में पूर्व-निर्धारित अंतराल पर निश्चित राशि का निवेश करने की अनुमति देती है। निवेश करने की निश्चित राशि ५०० रुपये तक कम हो सकती है।

 

एसआईपी भारतीय mutual fund निवेशकों के बीच लोकप्रियता हासिल कर रहा है, क्योंकि यह बाजार की अस्थिरता और बाजार के समय के बारे में चिंता किए बिना अनुशासित तरीके से निवेश करने में मदद करता है। म्यूचुअल फंड्स द्वारा दी जाने वाली व्यवस्थित निवेश योजनाएं लंबी अवधि के लिए निवेश की दुनिया में प्रवेश करने का सबसे अच्छा तरीका है। दीर्घावधि के लिए निवेश करना बहुत महत्वपूर्ण है, जिसका अर्थ है कि आपको अंतिम रिटर्न को अधिकतम करने के लिए जल्दी निवेश शुरू करना चाहिए। तो आपका मंत्र होना चाहिए – अपने निवेश से सबसे अच्छा प्राप्त करने के लिए शुरुआती, निवेश नियमित रूप से शुरू करें।

SIP mutual funds को मध्यम वर्गीय आदमी की पहुंच में लाया है क्योंकि यह उन लोगों को भी निवेश करने योग्य बनाता है जिनका बजट काफी कम होता है.जो एक बार में बङा निवेश करने में असमर्थ है पर वो हर महीने 500 या 1000₹ निवेश कर सकते है. तो SIP के जरिये वो ऐसे लोगों की पहुँच में आया है. मध्यम वर्गीय लोग लंबे समय तक छोटे निवेश करने से मोटा मुनाफा कमा सकते है.

 

What are the benefits of SIP?

वेसे SIP के कई सारे फायदे है जैसे की टैक्स में छूट , निवेश में सरलता आदि पर इनके अलावा भी कुछ और फायदे है –

सुविधाजनक : आप एसआईपी का उपयोग करके अनुशासित और चरणबद्ध तरीके से निवेश कर सकते हैं। यह आपको कम से कम 500 रुपये के साथ अपना निवेश शुरू करने की सुविधा देता है। आपका बैंक अकाउंट आपके SIP स्कीम वाले अकाउंट से लिंक होता है. जैसे आपका प्लान है हर महीने 1000₹ निवेश का , तो आपके बैंक अकाउंट से हर महीने 1000₹ SIP वाले Account में transfer कर दिए जाते है. उन भेजे गए रुपयों का इस्तेमाल यूनिट खरीदने में किया जाता है।

रुपये की लागत का लाभ: बाजार कम होने पर अधिक यूनिट खरीदें। यह आपके निवेश की समग्र लागत को कम करता है ।

रिस्क में कमी – SIP का सबसे बड़ा और मुख्य फायदा यह है की इसमें जोखिम काफी कम है. मान लीजिये की आप के पास पचास हजार रुपये शेयर बाजार में निवेश करने के लिए हैं. आपने उन रुपयों को एक साथ शेयर में लगा दिया.अब आप नहीं जानते की अगले दिन बाजार ऊपर जाएगा अथवा नीचे .

यह काफी जोखिम भरा सौदा होगा. यदि यही निवेश थोड़े थोड़े अंतराल में बाँट दिया जाए तो रिस्क में कमी आ जाती है. इस १००००० रुपये को हम 5000 ₹ की २० किश्तों के अंतराल में जमा करके शेयर बाजार के नुकसान से खुद को बचा सकते है. ठीक इसी प्रकार SIP हमें बड़ी राशि एक साथ न लगाने की वजह छोटी राशि निवेश करके शेयर बाजार के नुकसानों से बचाता है.

चक्रवृद्धि ब्याज: एक बार निवेश करने की तुलना में एसआईपी में चक्रवृद्धि ब्याज बेहतर और दीर्घकालिक लाभ सुनिश्चित करता है। जब भी SIP में निवेश किया जाता हैं और उस निवेश की हुयी राशि पर जो भी Return मिलता हैं उसे वापस से वहीँ पर Re-Invest यानी की दोबारा से निवेश कर दिया जाता हैं जिससे निवेशक का लाभ बढ़ जाता हैं और उसको होने वाले मुनाफे में वृद्धि होती है।

टैक्स में छूट : जब आप SIP में निवेश करते हैं तो आपको राशि के निवेश करने या राशि निकालने पर किसी प्रकार का टैक्स नहीं लगता है. पर टैक्स की छूट देने वाले स्कीमों में लॉक इन पीरियड होता है जैसे की 3 वर्ष. आप इनमे निवेश करके टैक्स में छूट पा सकते है.

RD से दोगुना अधिक रिटर्न: पारंपरिक एफडी की तुलना में, SIP एक प्रभावी तरीके से उच्च रिटर्न देता है

आपातकालीन निधि: संभावित आकस्मिकताओं/इमरजेंसी (जैसे चिकित्सा संकट या नौकरी छूटना) के लिए एक आपातकालीन निधि के रूप में कार्य कर सकता है, जो आपको इमरजेंसी में एक क्लिक पर एसआईपी विड्रॉल कर सकते है।

निवेशक अपनी जरूरत के अनुसार SIP में निवेश को जारी रखने या बंद करने का निर्णय ले सकता हैं. इससे निवेशक को न केवल अच्छे Return प्राप्त होते है बल्कि इसके साथ साथ अपनी सुविधा के अनुसार advanced लिक्विडिटी भी प्राप्त होती है.

 

which one investment plan should I choose?

वन टाइम इन्वेस्टमेंट और एसआईपी में अंतर :

वन टाइम इन्वेस्टमेंट :

इस मोड में, आप इन्वेस्टमेंट का जो टोटल अमाउंट होता है, एक ही बार में भुगतान करते हैं।

मंथली इन्वेस्टमेंट :

दूसरी ओर, एसआईपी में, एक निश्चित राशि एक म्यूचुअल फंड स्कीम में समय के नियमित अंतराल पर जमा की जाती है। संक्षेप में, एक बार के निवेश मोड को चुना जा सकता है यदि आपके पास अभी हाथ में पैसा है जिसे निवेश किया जा सकता है और एक एसआईपी को चुना जा सकता है यदि आप भविष्य में धन के नियमित प्रवाह की उम्मीद कर रहे हैं।

 

SIP Investment One time Investment
एक कार्यकाल में आवधिक/पीरियॉडिक निवेश पूरे कार्यकाल में एक टाइम में ही पूरा अमाउंट निवेश
बाजार में गिरावट के दौरान भी बेहतर रिटर्नस बाजार की ऊंचाई के दौरान बेहतर आय
एसआईपी संभावित मार्केट क्रैश से निवेश की रक्षा कर सकते हैं। वन टाइम इन्वेस्टमेंट में मार्केट क्रैश के दौरान बड़ा नुकसान हो सकता है, जो अक्सर ऐसे होते पाया गया हैं।

 

How to choose SIP? | एसआईपी कैसे चुनें?

इंटरनेट आपको आपके पिछले रिटर्न सहित शॉर्टलिस्ट किए गए म्यूचुअल फंड के बारे A to Z जानकारी प्रदान करेगा। फिर भी, सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा चुना गया फंड नीचे दिए गए मानदंडों को पूरा करता है या नहीं।

१) फंड का चयन करते समय 500 करोड़ की संपत्ति का आकार एक उचित बेंचमार्क हो सकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि इस कॉर्पस के नीचे के फंड खराब हैं, लेकिन यह उचित नहीं है।

२) जोखिम, रिटर्न और कर की दृष्टि से एसआईपी म्यूचुअल फंड की अवधि एक महत्वपूर्ण कारक है। ५ साल का संदर्भ बिंदु रखें और जांचें कि फंड ने बाजारों में ५ साल में कैसा प्रदर्शन किया।

३) एक एसआईपी योजना का चयन करते समय फंड हाउस की प्रतिष्ठा एक महत्वपूर्ण कारक है, क्योंकि यह बताता है कि वे अपने निवेशकों को बाजार की ऊंचाई और चढ़ाव का प्रभाव महसूस किए बिना बाजार की ऊंचाई और चढ़ाव को संभालने में कितना सक्षम है।

 

इसे भी पढ़े : what is an investment portfolio and what are its types

Comments are closed.